डियर पांच बेटियों के पापा...

डियर पांच बेटियों के पापा…

पापा, यह समाज उसी ढांचे पर खड़ा है जहां औरतों को हमेशा हाशिए पर रखा गया है| यह हममें बस ऐब खोजने के बहाने ढूंढ़ता फिरता है|
शर्म का नहीं बल्कि विस्तृत चर्चा का विषय हो माहवारी

शर्म का नहीं बल्कि विस्तृत चर्चा का विषय हो माहवारी

भारत में माहवारी के बारे में और इसके शुरू होने के बारे में बहुत कम अध्ययन किये गये हैं जिनमें मुख्य रूप से उम्र, जानकारी और समस्याओं के अनुभवों के आंकड़ें भी मिलते हैं|
किशोरावस्था – एक सशक्त विचारधारा

किशोरावस्था – एक सशक्त विचारधारा

बच्चे किसी भी समाज का भविष्य होते हैं और किशोरावस्था में बच्चों में होने वाले बदलाव न केवल बच्चे के विकास बल्कि पूरे समाज के विकास की दिशा तय करते हैं|
युवाओं के लिए युवाओं से उनकी अपनी बात

युवाओं के लिए युवाओं से उनकी अपनी बात

युवा लोग अपने आप में यौन और प्रजनन शक्ति रखने वाले होते हैं, पर उनके समाज में यह नहीं माना जाता है कि उनके भी यौनिक अधिकार होते हैं| उन्हें कहीं-कहीं पर बहुत कम प्रजनन अधिकार दिए जाते हैं|
यौन और प्रजनन स्वास्थ्य से जुड़ी युवा महिलाओं की तिहरी ज़रूरत

यौन और प्रजनन स्वास्थ्य से जुड़ी युवा महिलाओं की तिहरी ज़रूरत

एड्स की महामारी के कारण और इस जानकारी के कारण कि यौन संचारित संक्रमण से एचआईवी संक्रमण के प्रसार को बढ़ावा मिलता है, पूरी दुनिया में नई कार्यक्रम योजनायें और रोकथाम की विधियाँ विकसित करने के काम ने बहुत जोर पकड़ा है|
बनारस के गांवों को जेंडर समावेशी बनाने की साहस की अनूठी मुहिम

बनारस के गांवों को जेंडर समावेशी बनाने की साहस की अनूठी मुहिम

जेंडर ग्राम के तहत वाराणसी में अलग-अलग गांवों में सामाजिक मुद्दों पर काम करने वाले समाजसेवियों के साथ ‘जेंडर, यौनिकता और सरोकार’ पर केंद्रित प्रशिक्षण का आयोजन किया गया।
‘सुरक्षित गर्भसमापन’ एचआईवी बाधित महिलाओं के लिए भी प्रजनन अधिकार है

‘सुरक्षित गर्भसमापन’ एचआईवी बाधित महिलाओं के लिए भी प्रजनन अधिकार है

एचआईवी बाधित महिलाओं के लिए ऑपरेशन से गर्भसमापन किये जाने की अपेक्षा दवाओं से गर्भसमापन कराना बेहतर विकल्प हो सकता है| पर एचआईवी बाधित महिलाओं को आमतौर पर गर्भसमापन कराने के लिए सुरक्षित विकल्प नहीं मिल पाते|
ख़ास बात : मानसिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता रत्नाबोली रे के साथ

ख़ास बात : मानसिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता रत्नाबोली रे के साथ

रत्नाबोली रे प्रसिद्ध मानसिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता, प्रशिक्षित मनोवैज्ञानिक और मानसिक स्वास्थ्य अधिकार पर काम करने वाली संस्था ‘अंजली’ की संस्थापिका हैं|
गुजरात के एचआईवी/एड्स कार्यक्रम में शामिल की गयी वीर्य नष्ट से जुड़ी चिंताएं

गुजरात के एचआईवी/एड्स कार्यक्रम में शामिल की गयी वीर्य नष्ट से जुड़ी चिंताएं

दक्षिण एशिया में पुरुषों में वीर्य खत्म होना महिलाओं में योनिस्राव होने जितना ही महत्व रखता है और इससे प्रजनन और स्वास्थ्य सेवाएं भी प्रभावित होती है|
जेंडर आधारित भेदभाव को चुनौती देने का ‘साहस’ करते किशोर-किशोरियां

जेंडर आधारित भेदभाव को चुनौती देने का ‘साहस’ करते किशोर-किशोरियां

जेंडर का ढांचा लड़कियों के आज़ाद पंखों को कतरने और उनकी क्षमताओं को कैद करने का काम करता हैं, वहीं ये लड़कों को मर्दानगी के विषैले जाल में फंसता है।

What's Trending On FII?

These Are The 15 Women Who Helped Draft The Indian Constitution/इन 15 महिलाओं ने भारतीय संविधान बनाने में दिया था अपना योगदान

These Are The 15 Women Who Helped Draft The Indian Constitution

On this Republic Day, let us take a look at the fifteen powerful women who helped draft the Indian Constitution.

In Conversation With Adhunika Prakash: The Founder Of Breastfeeding Support For Indian Mothers

Breastfeeding Support for Indian Mothers founded by Adhunika Prakash and the #FreedomToNurse initiative has gained a lot of attention on the online forums. What is it?
झलकारी बाई : शौर्य और वीरता की सशक्त मिसाल 'दलित इतिहास के स्वर्णिम गलियारे से'

झलकारी बाई : शौर्य और वीरता की सशक्त मिसाल ‘दलित इतिहास के स्वर्णिम गलियारे...

झलकारी बाई की गाथा आज भी बुंदेलखंड की लोकगाथाओं में सुनी जा सकती है और भारत सरकार ने में झलकारी बाई के सम्मान में एक डाक टिकट जारी किया है|