#MeToo से भारतीय महिलाएं तोड़ रही हैं यौन-उत्पीड़न पर अपनी चुप्पी

#MeToo से भारतीय महिलाएं तोड़ रही हैं यौन-उत्पीड़न पर अपनी चुप्पी

पत्रकारिता से जुड़ी बहुत सी महिलाओं ने अपने साथ कार्यक्षेत्र में हुए यौन दुर्व्यवहार के बारे में #MeToo अभियान के तहत सोशल मीडिया में खुलकर लिखना शुरू किया है|
‘ऋषि पंचमी व्रत’ - पीरियड को पाप मानकर शुद्ध होने का संकीर्ण रिवाज

‘ऋषि पंचमी व्रत’ – पीरियड को पाप मानकर शुद्ध होने का संकीर्ण रिवाज

ऋषि पंचमी व्रत महिलाओं के पीरियड के दौरान मन्दिर या रसोई जैसे अन्य निषेधों जैसे पापों को दूर करने के लिए किया जाता है|

खबर अच्छी है : सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश का फ़ैसला और पितृसत्ता...

सबरीमाला मन्दिर में महिलाओं के प्रवेश पर सदियों से लगे प्रतिबन्ध को सुप्रीम कोर्ट की 5 सदस्यीय संवैधानिक पीठ ने 4:1 के बहुमत से हटाने के हक में फैसला सुनाया|
इन छह उपायों से सुरक्षित होगा गर्भ समापन

इन छह उपायों से सुरक्षित होगा गर्भ समापन

असुरक्षित गर्भ समापन प्रक्रियाओं, बाधक गर्भ समापन कानून और गर्भ समापन के कारण ऊंची मृत्यु और अस्वस्थता दरें यह सभी एक दूसरे को बढ़ावा देते हैं| आइये जानते है कि किन छह प्रमुख उपायों से गर्भ समापन को सुरक्षित किया जा सकता है|
बीएचयू में फिर दोहराया सड़े पितृसत्तात्मक प्रशासन का इतिहास

बीएचयू में फिर दोहराया सड़े पितृसत्तात्मक प्रशासन का इतिहास

बीते रविवार को जब बीएचयू के छात्र-छात्राओं ने सालभर पहले हुए आन्दोलन की याद में जब प्रतिरोध कार्यक्रम का आयोजन किया था तो एकबार फिर विश्वविद्यालय प्रशासन का चेहरा सामने आया|
भारत में गर्भ समापन का प्रगतिशील कानून और सरोकार की चुनौतियाँ

भारत में गर्भ समापन का प्रगतिशील कानून और सरोकार की चुनौतियाँ

चिकित्सीय गर्भ समापन अधिनियम, संसद द्वारा 1971 में पारित कर भारत के सभी राज्यों में गर्भ समापन को क़ानूनी मान्यता दी गयी|
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी महिलाओं के लिए सऊदी अरब क्यों है  ?

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी महिलाओं के लिए सऊदी अरब क्यों है ?

एक कश्मीरी छात्रा से यौन उत्पीड़न का आरोप विधि संकाय के प्रोफेसर शब्बीर  पर लगे थे और ये सभी एएमयू में महिलाओं की नरकीय हालात को समझने के काफी है|
भारत में सुरक्षित गर्भ समापन करवाना आज भी एक चुनौती है

भारत में सुरक्षित गर्भ समापन करवाना आज भी एक चुनौती है

भारत में सुरक्षित गर्भ समापन आज भी एक बड़ी चुनौती है| गौरतलब है कि ये कोई वक्तव्य की बजाय हमारे समाज की कड़वी सच्चाई है जो सीधेतौर पर पितृसत्ता की महिला विरोधी संस्कृति का हिस्सा है और इसे बदलना बेहद ज़रूरी है|
कुपोषण से बचाने वाली आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की तनख्वाह कुपोषित क्यों है? 

कुपोषण से बचाने वाली आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की तनख्वाह कुपोषित क्यों है? 

बीते 5 सिंतबर के किसान-मजदूर संघर्ष रैली में बड़ी संख्या में आंगनबाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं ने भी हिस्सा लिया था।
महिला-अधिकार का अहम हिस्सा है गर्भ समापन

महिला-अधिकार का अहम हिस्सा है गर्भ समापन

गर्भ समापन महिलाओं के यौनिक-प्रजनन स्वास्थ्य और अधिकार का एक अभिन्न अंग है| ये महिलाओं के अपने शरीर पर नियन्त्रण और खुद के लिए निर्णय लेने की क्षमता है|

What's Trending On FII?

Kerala's Casteist Breast Tax And The Story Of Nangeli

Kerala’s Casteist Breast Tax And The Story Of Nangeli

Imagine paying a tax to cover your breasts? Kerala women once did.
लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है? | Feminism In India

लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

गाँव हो या शहर व्यवहार से लेकर काम तक लैंगिक समानता हमारे समाज में मौजूद है, जो हमारे देश के लिए एजेंडा 2030 को पूरा करने में बड़ी चुनौती है|
Why Has Social Media Made It 'Cool' To Have Mental Illnesses?

Why Has Social Media Made It ‘Cool’ To Have Mental Illnesses?

Mental illnesses are real illnesses that have a harsh reality and are not tools to show off your ‘quirky’ personality on social media.