Violence

In this section, find articles, images, videos and artwork on sexual, physical and mental violence against women and marginalized communities in India and South Asia.

समाज के चरित्र में धब्बा है लक्ष्मणपुर बाथे जनसंहार : जस्टिस विजय प्रकाश मिश्रा

आज भी लक्ष्मणपुर बाथे गाँव के दलित समुदाय की स्थिति वही के वही पड़ी है| जहा कल थी! आज भी वहा बेरोजगारी और शिक्षा का काफी अभाव है|
"उसने मेरे चेहरे पर एसिड डाला है, मेरे सपनों पर नहीं" – लक्ष्मी

“उसने मेरे चेहरे पर एसिड डाला है, मेरे सपनों पर नहीं” – लक्ष्मी

लक्ष्मी को अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की पत्नी मिशेल ओबामा ने साल 2014 में 'इंटरनेशनल वुमेन ऑफ करेज' अवॉर्ड से सम्मानित किया था|
The Christchurch Mosque 'Shootings': Why Are White People Never Called Terrorists?

The Christchurch Mosque ‘Shootings’: Why Are White People Never Called Terrorists?

What the Christchurch mosque 'shootings' tell us about the media's racialised rhetoric surrounding terrorism and the ways in which it contributes to racism, Islamophobia and white hegemony.
Why Love Jihad Is An Attack On Women’s Rights

Why ‘Love Jihad’ Is An Attack On Women’s Rights

The concept of love jihad is based on the belief that it’s the 'sacred' duty of men to protect women of their community as women left on their own are ‘naive, gullible creatures’.
औरतों! खुद पर होने वाली हिंसा को नज़रअंदाज करना दोहरी हिंसा है

औरतों! खुद पर होने वाली हिंसा को नज़रअंदाज करना दोहरी हिंसा है

महिलाएं, पुरुष से स्वीकृति, एक अच्छी औरत बने रहने की फांस, जेंडर आधारित भेदभाव का हिस्सा बनकर वो महिला हिंसा से आंखे चुरा लेती है पर अपने आप को गैरबराबरी के चक्रव्यू में फंसा हुआ पाती है।
Why Is No One Talking About The Deaths Of Brown Women In Canada?

Why Is No One Talking About The Deaths Of Brown Women In Canada?

What is missing from the glorification of Canada, as a feminist and multicultural utopia are the cruellest truths of money and misogyny related to the deaths of brown women.
4 Things People Said When I Spoke Out About Intimate Partner Violence

4 Things People Said When I Spoke Out About Intimate Partner Violence

When I found out that I was not the only victim of intimate partner violence, I realised that my silence was enabling his violence. I decided to start speaking out about it, and I want to share some common responses to highlight why speaking out can be re-traumatising and difficult to a survivor.
बोलती औरत से पितृसत्ता डरती है, तभी तो महिला-केंद्रित भद्दी गालियाँ बोलती है!

बोलती औरत से पितृसत्ता डरती है, तभी तो महिला-केंद्रित भद्दी गालियाँ बोलती है!

हर क्रिया के प्रति होने वाले प्रतिक्रिया के तहत महिला-केंद्रित गालियाँ देना, साफ़तौर पर समाज की पितृसत्तात्मक सोच को दर्शाता है, जिसके तहत महिला को न केवल नीचा दिखाया जाता है बल्कि उसके लिए गालियाँ इस्तेमाल करना उसकी पहचान जैसा बताया जाता है|
हम ही से है संविधान

हम ही से है संविधान

भारत जो विविधता का देश माना जाता है और शायद इसी विभिन्नता को केंद्र में रखकर संविधान की उद्घोषणा ‘हम’ से होती है| पर अब सवाल ये है कि क्या वास्तव में ये ‘हम’ इस संविधान के संरक्षण से बच पाया है? या सिलसिलेवार तरीके से इस ‘हम’ से कई विभिन्नताओं का बहिष्कार कर दिया गया है|
पितृसत्ता के कटघरे में चिखती महिला की ‘यौनिकता’

पितृसत्ता के कटघरे में चिखती महिला की ‘यौनिकता’

पितृसत्तारुपी दानव हमारी क्षमताएं सीमित कर देता है, हमें आगे बढ़ने से रोक देता है और समाज के समावेशी विकास पर पूर्ण विराम लगा देता है।

What's Trending On FII?

Atishi Marlena Vs Gautam Gambhir: The Misogyny That Plagues Indian Politics

Atishi Marlena Vs Gautam Gambhir: The Misogyny That Plagues Indian Politics

In the latest episode of ‘How Ugly Can Indian Politics Get?’ we saw Atishi Marlena, Delhi based politician, educator and activist, get viciously slandered as questions about her caste, identity, and character were raised.
How Tharoor's Bill On Women's Health Deals With Abortion

How Tharoor’s Bill On Women’s Health Deals With Abortion

Tharoor's Bill makes certain recommendations with a specific focus on issues of marital rape, reproductive agency and menstrual rights.
पैड खरीदने में माँ को आज भी शर्म आती है

पैड खरीदने में माँ को आज भी शर्म आती है

मासिकधर्म और सैनिटरी पैड पर हमारे घरों में चर्चा करने की बेहद ज़रूरत है और जिसकी शुरुआत हम महिलाओं को ही करनी होगी।